आसाम की भाजपा विधायक ने शुरू की विधानसभा में ब्रेस्ट फीडिंग रूम की मुहिम



विधायक को नवजात बेटी को दूध पिलाने हर घंटे जाना पड़ा घर, शुरू की विधानसभा में फीडिंग रूम की मुहिम
अंगूरलता ने कहा कि उन्हें हर एक घंटे में विधानसभा छोड़कर घर बेटी नमामी को दूध पिलाने जाना पड़ता है।
इस साल की शुरुआत में आस्ट्रेलियन सांसद लरिस्सा वॉटर्स देश की ऐसी पहली महिला राजनेता बन गई थीं जिन्होंने अपनी नवजात बच्ची को संसद में ही दूध पिलाया था। पिछले साल ऑस्ट्रेलिया में संसद में महिलाओं को संसद में दूध पिलाने की अनुमति दी गई थी। ऑस्ट्रेलिया के बाद भारत में भी इस प्रकार का कानून लाने की मांग उठने लगी है। असम की भाजपा  विधायक ने विधानसभा में बच्चों को दूध पिलाने के लिए एक कमरा बनाने की मांग उठाई है। विधायक अंगूरलता डेका का कहना है विधानसभा में फीडिंग रूम होना चाहिए ताकि घर में मौजूद उनकी एक माह की बेटी को भूखा न रहने पड़े।

आसाम से लेकर आस्ट्रेलिया तक एक मुद्दे पर बहनों का सखियापा



अंगूरलता ने कहा कि मैं ये नहीं कह रही हूं कि ऑस्ट्रलिया जैसा ही कानून यहां भी बनाया जाए लेकिन मैं चाहती हूं कि तनज़ानियन सांसद की तरह हमारे लिए के स्पेशल कमरा बनाया जाए जहां मेरी जैसी मां अपने बच्चों की देखभाल कर सकें। पहली बार विधायक बनीं अंगूरलता ने 3 अगस्त को एक बेटी को जन्म दिया था। संडे एक्सप्रेस से बातचीत के दौरान अंगूरलता ने असम विधानसभा में फीडिंग रूम बनाने की मांग की। असम फिल्मों की मशहूर 31 वर्षीय अदाकारा अंगूरलता ने कहा कि 4 सितंबर से शुरु हुए मानसून सेशन के दौरान उन्हें विधानसभा से अपने घर तक काफी चक्कर लगाने पड़ रहे हैं।

एक राजधानी: जहाँ टॉयलेट ढूंढते रह जाओगे. महिलाओं ने बयान किया दर्द

अंगूरलता ने कहा कि उन्हें हर एक घंटे में विधानसभा छोड़कर घर बेटी नमामी को दूध पिलाने जाना पड़ता है। इस कारण मैं विधानसभा में होने वाली काफी बहस और चर्चाएं छोड़ चुकी हूं। विधानसभा और घर के बीच फंसी अंगूरलता ने पार्लियामेंटरी अफेयर्स मिनिस्टर चंद्र मोहन से मांग की है  कि विधानसभा में ब्रेस्ट फीडिंग के लिए स्पेशल कमरा बनवाया जाए। कानूनन  महिलाओं को 6 महीनों के मेटर्निटी लीव मिलती है लेकिन यह कानून विधायकों और सांसदों पर लागू नहीं होता है। इसके साथ ही अंगूरलता चाहती हैं कि सरकार सरकारी और गैर-सरकारी संगठनों में भी महिलों के लिए स्पेशल रूम  बनाया जाए।

महिला सशक्तिकरण के लिए: ‘एक देश, एक कानून’
इन्डियन एक्सप्रेस/जनसत्ता से साभार 

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह ‘द मार्जिनलाइज्ड’ नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. ‘द मार्जिनलाइज्ड’ मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

‘द मार्जिनलाइज्ड’ के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here