नृत्यमय जगत और अन्य कविताएँ

स्वरांगी साने

 साहित्यकार, पत्रकार और अनुवादक स्वरांगी की रचनाएं  विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में प्रकाशित. संपर्क : swaraangisane@gmail.com



सारंगी वादक उस्ताद मोइनुद्दीन खाँ  दुनिया से रुख्सत हो गये , उन्हें समर्पित  स्वरांगी साने की कविताएँ 

1.
कभी देखा है किसी को सौरंगी (सारंगी) बजाते हुए
लगता ही नहीं
सौरंगी बज रही है
देह से सटी होती है सौरंगी
और लगता है देह बज रही है ।

सौरंगों को एक साथ गूँथ लिया है उसने
पूछतेहैं –कोई अच्छा सौरंगी बजाने वाला है
नाम आता है उसका
जिसने मांझ लिया है गज को देह के साथ
सेतु बन गया है गज
जिससे
उसकी देह के पार की यात्रा शुरू हो गई है ।

2.
तबले पर थिरक रही हैं
अंगुलियाँ
चेहरे पर मुस्कान
यह ‘स्व’ का आनंद है
जो उसे बना रहा है ‘तबलची’ से ‘तबला नवाज़’
‘झपताल’ के
‘धीना धी धीना’
का लड़कपन है
तो ‘धमार’ का
‘क धि ट धि ट धाs’
का संयत भाव भी।
इस ‘धा’ पर सम आई है
गर्दन हिलाकर बता रहा है वह
और इस ‘तिरकिट’ पर
घूमी हैं अंगुलियाँ
उसकी गर्दन और चेहरे का स्मित हास्य भी

क्या है ऐसा
जो तबला बजाते हुए
उसे आनंदित कर रहा है
नाच रहा है उसका
ऊर्ध्व शरीर
ऊर्ध्व की ओर हो रही है उसकी गति
उसके लिए यह मोक्ष का सोपान है।

3.
मुखमोर-मोर मुस्कात जात’
गा रही है गायिका मालकौंस में
अर्र्धनिमीलित हैं उसकीआँखें
शब्दों से नहीं
तान के उतार-चढ़ाव से
बदल रही हैं उसके चेहरे की
भाव-भंगिमाएँ
यदि इसकी जगह वह गाती
‘ठुमक चलत रामचंद्र’
तब भी उसके चेहरे पर वही शांत भाव होता
जो
‘भोर भई अब आए हो, रैन कहाँ बिताई’
गाते हुए होता।

गायिका को न शब्दों का उपालंभ चाहिए
न उनके अर्थों की व्यंजना
उसके लिए शब्द से भी ज़्यादा ज़रूरी है
स्वर, आरोह-अवरोह
वह स्वरों में खो रही है
वही है उसका परमानंद, उसका मोक्ष।

अनचिन्हा कोलाज़….स्वरांगी साने की कविताएँ

4.
सितार के मिज़राब
अँगुलियों में अँगूठियों की तरह पहने हैं
खींच-खींच कर बजाई जाती है सितार
एक विशिष्ट आसन में बैठकर
और खुद ही मुँह से निकलता है ‘क्या बाsत’
यह उस तार के खींचने का उन्माद नहीं होता
न ही यह होता है उस तुंबे का स्पंदन
उस झाले पर भी नहीं कही गई होती है यह बात

यह उस क्षण को जी लेने का आनंद होता है
जिसे जिया होता है
उसने अभी
खुद को खोते हुए।

5.
… और
और देखा है मुरली बजाते हुए उसे
शरीर पर कितने वक्र पड़ते हैं
पर कितने प्यार से बजाता है वह बंसी
नीर वशांतिका रहस्य
क्या केवल कृष्ण जानता है ?
नहीं
वह भी जानता है
जो बैठकर बजाता है बाँसुरी
और खो जाता है निराकार में ।

6.
इन सबके साथ
तो कभी अकेले ही
नाचती है नर्तकी
उसकी आँखें बंद नहीं होतीं
हरक्षण की सजगता उसके साथ होती है।

आमद का ‘धातकथुंगाs’
करते हुए वह अभिनय करती है
साकार कर देती है शिव-पार्वती।
वह
हर शब्द के भाव को पकड़ती है ऐसे
जैसे कि उस शब्द का वही अर्थ हो
‘लाली मेरे लाल की’ कहते हुए वह अपने लाल-गोपाल को दिखाती है
तो सूर्य की और होठों की भी लालिमा दिखा देती है

उन छोटे-छोटे बोल-टुकड़ों को
वह इतने प्यार से बरतती है
जैसे पैरों से निकाल रही हो मक्खन
दूसरे ही क्षण किसी कवित्त में
वह राधा बन छीन ले जाती है बाँसुरी

एक ही बार में वह
क्या-क्या करती है
उलाहना देती है
तो कभी बिनती करने लगती है
‘मोहे छेड़ो न कन्हाई’

वह नृत्य करती है
देखती है तबले की ओर
होती है तबले और घुंघरुओं की जुगलबंदी
पखावज के नाद में रमण करती है
स्तब्ध हो जाता है वह क्षण
तभी वह देखती है सौरंगी को
और एक टीस सीधे
उसके दिल को चीर जाती है
तानपूरे से भरती है
वह पूरा व्योम
तानपूरे पर चलती चार अँगुलियों से
चारचरणोंकोपारकरजातीहै

बाँसुरी की तान में
वह करती है एकपल को आँखें बंद
शुरू होती है भैरवी
खोल देती है आँखें तुरंत।

अहीर भैरव के साथ
सुबह की उजास
उसके चेहरे पर होती है
दमकती है वह
दमकता है नृत्य
ताल-लय स्वर
और सारे साज़-साज़िंदे
वह पूर्ण परिक्रमा करती है
परिधि पर एक ओर
खड़ी हो जाती है पृथ्वी
पृथ्वी के कक्ष में घूमने लगती है नर्तकी
नर्तन हो जाता विश्व
कीर्तन हो जाता है संसार
जहाँ कुछ विषम नहीं होता
सब सम हो जाता है
‘सम’ पर विराम पाता है।

फुटनोट/ पादटिप्पणी
1- बो, जिससे सौरंगी को बजाया जाता है
2- प्रत्येक ताल की पहली मात्रा। इसी से प्रारंभ होता है, इसी पर अंत
3- रात्रि के अंतिम पहर का एकराग
4- जिसे पहन कर सितार बजाई जाती है
5- पीछे गोलाकार गुबंद
6- द्रुतगति सेब जाना, आमतौर पर इससे समापन किया जाता है
7- प्रारंभ
8- काव्यमय रचना जिसे ताल-लय में पिरोया गया हो
9- सर्वकालिक राग पर आमतौर पर अंत में गाया जाता है
10- दिन के प्रथम पहर का राग

स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह ‘द मार्जिनलाइज्ड’ नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. ‘द मार्जिनलाइज्ड’ मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें    :  डोनेशन/ सदस्यता 

‘द मार्जिनलाइज्ड’ के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें  उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,themarginalisedpublication@gmail.com

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here