कल्पना पटोवारी द्वारा गाया गया और नवल कुमार द्वारा लिखित गीत कॉमनवेल्थ गेम्स में गूंजेगा

अागामी 4-15 अप्रैल के बीच अस्ट्रेलिया के गोल्ड कोस्ट शहर में कॉमनवेल्थ गेम्स के समारोह में प्रतियोगिता में शामिल सभी देशों की ओर से सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये जाएंगे। इसमें भारत की तरफ से प्रख्यात लोक गायिका कल्पना पटोवारी भी भाग लेंगी और वे फारवर्ड प्रेस के हिंदी संपादक नवल किशोर कुमार द्वारा लिखा गया गीत प्रस्तुत करेंगी।

कॉमनवेल्थ गेम्स 2018 में प्रख्यात लोक गायिका कल्पना पटोवारी की आवाज में गूंजेंगा ‘तिरंगा प्यारा’ गीत



कॉमनवेल्थ गेम्स, 2018 के समारोह में  प्रस्तुत किए जाने वाले नवल किशोर कुमार द्वारा लिखित गीत का शीर्षक ‘तिरंगा प्यारा’ है, जिसकी थीम भारत की नदियों और संबंधित संस्कृतियों पर आधारित है। गीत की शुरूआत आसामी लोकगीत देऊड़ी गीत से होती है। इसके बाद भिखारी ठाकुर और बाबू रघुवीर नारायण के भोजपुरी गीत को शामिल किया गया है। वहीं गीत के मुख्य हिस्से का लेखन नवल किशोर कुमार ने किया है।  गीत को कल्पना पटोवारी के साथ बीरेन देवड़ी और सेतु सिंह ने आवाज दी है। तकनीकी सहयोगियों में काकुल भारली, संग्राम लोहार और निप्पू खुंद आदि शामिल हैं। इस गीत को म्यूजिक बॉक्स नामक संगीत कंपनी ने तैयार किया है। संगीत कंपनी ने अपने यूट्यूब चैनल उपरोक्त गीत का प्रोमो जारी कर दिया है

देखें वीडियो :  ‘तिरंगा प्यारा’



नवल किशोर कुमार मूलरूप से बिहार की राजधानी पटना के रहने वाले हैं। कंप्यूटर टेक्नोक्रेट के रूप में कैरियर की शुरू करने वाले नवल ने 2007 में पत्रकारिता की शुरूआत की। प्रारंभ में वे पटना से प्रकाशित दैनिक समाचार पत्र सन्मार्ग और आज अखबार से जुड़े। फारवर्ड प्रेस से उनका जुड़ाव 2012 से है। उन्हें बिहार के पहले हिन्दी न्यूज वेब पोर्टल ‘अपना बिहार डॉट ओआरजी’ की स्थापना (2007) करने का भी श्रेय प्राप्त है।

गौरतलब है कि चर्चित लोकगायिका कल्पना पटोवारी मूल रूप से आसाम के गुवाहाटी जिले के बरपेटा की रहने वाली हैं। उन्होंने तीस से अधिक भाषाओं में गीत गाये हैं। उनकी विशेष पहचान भोजपुरी लोकगायिका के रूप में है। उन्होंने द लीगेशी ऑफ भिखारी ठाकुर के जरिए भोजपुरी के शेक्सपीयर भिखारी ठाकुर के गीतों को अंतरराष्ट्रीय मंचों पर प्रस्तुत किया। साथ ही एंथोलॉजी ऑफ बिरहा के जरिए उन्होंने बिहार और उत्तरप्रदेश के लोक संगीत के इस विधा के विभिन्न आयामों को समग्रता में पेश किया है।

फॉरवर्ड प्रेस से साभार 


स्त्रीकाल का प्रिंट और ऑनलाइन प्रकाशन एक नॉन प्रॉफिट प्रक्रम है. यह ‘द मार्जिनलाइज्ड’ नामक सामाजिक संस्था (सोशायटी रजिस्ट्रेशन एक्ट 1860 के तहत रजिस्टर्ड) द्वारा संचालित है. ‘द मार्जिनलाइज्ड’ मूलतः समाज के हाशिये के लिए समर्पित शोध और ट्रेनिंग का कार्य करती है.
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
लिंक  पर  जाकर सहयोग करें :  डोनेशन/ सदस्यता 

‘द मार्जिनलाइज्ड’ के प्रकशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  ऑनलाइन  खरीदें :  फ्लिपकार्ट पर भी सारी किताबें उपलब्ध हैं. ई बुक : दलित स्त्रीवाद 
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016,[email protected]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here