स्त्रीकाल का नया अंक ऑनलाइन पढ़ें या घर मँगवायें

विशेष : #MeToo

इस अंक (#MeToo) में-
दीपांजना, सुधा अरोड़ा (Sudha Arora), जशवंत, अरविंद जैन (Arvind Jain Bakeelsab), विजय प्रसाद, शोएब दानियाल, नाइश हसन (Naish Hasan), , अमोल, सुशील मानव(Sushil Manav), मनोरमा, मेहरुन्निसा रेवा व सल्ला सरिओला, विजयलक्ष्मी सिंह ‘चंदेल’, मनोज, निवेदिता, प्रतिमा,नूर ज़हीर(Noor Zaheer), तोषी, रॉहिन कुमार, पल्लवी के थीम आलेख, पत्रकार विनोद दुआ के मामले में ‘दि वायर’ का पक्ष, आत्मकथांश, रमणिका गुप्ता, शरद जायसवाल(Sharad Jaiswal), पूजा तिवारी संदीप, मुक्ता साल्वे, अनुवाद सपकाले (संदीप मधुकर सपकाळे), अनिता भारती (Anita Bharti), के आलेख हेमलता महिश्वर(Hemlata Mahishwar), मेधा (Medha Medha), तहसीन मजहर(Tahsin Mazhar, प्रतिभा श्री, की कविताएं अफगानी कवयित्री नादिया अंजुमन की कविताओं का राजेश चन्द्र (Rajesh Chandra)द्वारा अनुवाद, और भूमिका द्विवेदी अश्क (Bhumika Dwivedi) तथा संजीव चंदन द्वारा स्मृतिलेख शामिल हैं.
कविताओं के साथ रेखाचित्र सोनी पांडे. कुछ आलेखों आ अनुवाद डा. अनुपमा गुप्ता ने किया है.

ऑनलाइन पढने के लिए लिंक क्लिक कर नॉटपर जायें :
स्त्रीकाल #MeToo

स्त्रीकाल घर मँगवायें लिंक क्लिक करें और द मार्जिनलाइज्ड पब्लिकेशन के वेबसाईट से ऑर्डर करें, सदस्य बनें : एक प्रति के लिए 25 रूपये शिपिंग चार्ज अलग से देना होगा
स्त्रीकाल घर मँगवायें ,
सदस्य बनें:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here