चार करोड़ की फेलोशिप पाने वाली बेटी सुदीक्षा को मर्दवाद ने मार दिया

सुदीक्षा भाटी ने 5वीं तक की पढ़ाई डेरी स्कैनर गांव के प्राइमरी स्कूल से की थी वह गरीब परिवार की होनहार बेटी थी, उसने सीबीएसई 12वीं की परीक्षा में जिला टॉप किया था, शिव नाडर फाउंडेशन द्वारा बुलंदशहर में विद्याज्ञान लीडरशिप एकेडमी का संचालन किया जाता है, जहां गरीब परिवार के बच्चों को नि:शुल्क शिक्षा दी जाती है। वर्ष 2011 में सुदीक्षा का चयन वहां के लिए हुआ था। 2018 में केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) की 12 की परीक्षा के परिणाम में सुदीक्षा ने 98 फीसद अंक हासिल किए थे। इसके साथ उसने जिला टॉप भी किया था।

सिकंदराबाद के दुल्हेरा गांव के विद्या ज्ञान स्कूल की छात्रा सुदीक्षा 12वीं में अंग्रेजी विषय में 95, इतिहास में 100, राजनीति विज्ञान में 96, भूगोल में 99, अर्थशास्त्र में 100 अंक हासिल किए थे। स्कूल की तरफ से स्कॉलरशिप के लिए अमेरिका में आवेदन किया गया था। जहां से उसको 2 साल पहले 2018 में जब 4 करोड़ रुपये की स्कॉलरशिप दी गई थी। वह अमेरिका के बॉबसन कॉलेज से पढ़ाई कर रही थीं वह 4 साल के लिए अमेरिका गई थी।

डेयरी स्कैनर की रहने वाली थी, पढ़ाई के साथ साथ सुदीक्षा सामाजिक कार्य भी करती थी, जिसके लिए वो वॉइस ऑफ वीमेन संगठन से भी जुड़ी थी, जो महिलाओं के खिलाफ बढ़ रहे अपराधों के विरोध में कार्य करते हैं, सोमवार को वह अपने चाचा के साथ बाइक पर अपने मामा से मिलने सिकंदराबाद जा रही थी नेशनल हाईवे पर औरंगाबाद गांव के पास उनकी बाइक को तेज रफ़्तार बाइक सवार ने टक्कर मार दी,वहीं सड़क हादसे में सुदीक्षा की मौत हो गई और उनके चाचा को गंभीर चोट आई है। उसे 20 अगस्त को अमेरिका वापस लौटना था, कोरोना संक्रमण की वजह से जून के पहले हफ्ते में अमेरिका से वापस आई थीं।

सुदीक्षा के पिता का कहना है की उनकी बेटी की मौत हादसा नहीं साजिश है पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज नहीं की है वही पुलिस के अपर पुलिस अधीक्षक ने बताया कि औरंगाबाद थाना पुलिस को एक सूचना मिली थी कि एक सड़क हादसा हुआ है। इसके तुरंत बाद पुलिस मौके पर पहुंची तो पता चला कि सुदीक्षा अपने भाई के साथ मामा के घर जा रही थी, इसी दौरान वहां ऐक्सिडेंट हुआ और सुदीक्षा की मौत हो गई।

“ट्रैफिक के कारण बुलेट मोटरसाइकल ने ब्रेक लिया, ब्रेक के कारण मोटरसाइकल भाई-बहन की गाड़ी से टकराई। टकराने के बाद लड़की की गिरने से दुखद मौत हो गई। शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया और कार्यवाही जारी है। उस वक्त लड़की के भाई या किसी ने भी छेड़छाड़ की बात नहीं बताई थी।”-अपर पुलिस अधीक्षक, बुलंदशहर पुलिस

“पुलिस इसे रोड ऐक्सिडेंट बता रही है लेकिन यह ऐक्सिडेंट हुआ नहीं बल्कि कराया गया है। यह जानबूझकर मर्डर है लेकिन एक भी आरोपी अभी तक पकड़ा नहीं गया। एफआईआर भी दर्ज नहीं हुई।”-जीतेंद्र भाटी, सुदीक्षा के पिता

“बड़े बड़े सपने थे उसके पर रहा अब कुछ नहीं, रुक गई साँस, बुझ गई आस,और रह गया बस अँधेरा ही अँधेरा”

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here