ज्योति शर्मा 
1. स्त्रीपतन -1
प्रेम में डूबी स्त्री सदा पुरूष का
हृदय टटोलती है
प्रेम में भीगा पुरूष स्त्री की देह.
2. सोशल मीडिया और स्त्री
हमेशा प्रेम में डूबी स्त्री की वीडियो
वायरल हो जाती है
मोबाइल पर तितली की तरह उड़ती
निर्वस्त्र, लांछित और कामुक
3. आत्महत्या
स्त्री की आत्महत्या विवाह होता है
पुरुष की आत्महत्या के बाद वैधव्य
4. हक
हक़ की बात की तो छिनाल है तू
प्यार की बात कर माल है तू
(तुकबंदियाँ कई बार आड़े आई
जब जब आत्महत्या की मन में समाई)
5. सुलक्षणा
कौन है सुलक्षणा
जो ढोंग में ही विशारद
6. चरित्रहीन
पति को नपुंसक कहने वाली स्त्री
चरित्रहीन कहलाती है  नपुंसक के
साथ सम्भोगहीन जीवन व्यतीत
करने वाली स्त्री संन्यासन क्यूँ
नही कहलाती ?
सत्य की खोज में एक दिन
अचानक घर से निकली स्त्री
बुद्ध नहीं चरित्रहीन कहलाती है
7. विधवा
विधवा आश्रम के सारे दरवाजे
बेटों के मस्तिष्क में खुलते है।
8. समलैंगिक स्त्री
समलैंगिक स्त्री कोई नहीं होती
क्योंकि उनका भी कर सकता है बलात्कार
कोई भी आदमी
लड़कियों को अपना वर
और
वैश्या को अपना ग्राहक चुनने का अधिकार नहीं है
सवर्ण है या दलित स्त्री
स्तनो को ढंकने पर
स्तनों को काटकर ‘कर’ भरना होगा
(स्तनों पर दृष्टि)
9 . आधुनिक स्त्री -2 (माय बॉडी माय रूल्स)
मैं ने सिंदूर से पारे को छानकर
निगल लिया, जिससे दूर हो गये
मेरे हृदय के दोष
सुहागिन होकर, कुंकुम नहीं
लगाया ललाट पर , बुरी नज़रों
से बचने के लिए  लगाया
काला टीका
बादाम के तेल का काजल लगाऊँगी
अपनी आँखों को तेज करने
के लिए देख पाऊँ ठीक से
पुरूष का हृदय और जननांग
हाथों में मेहंदी नहीं अपने दाहिने नितंब
पर गुदवाया है टैटू
“माय बॉडी माय रूल्स”
मेरी देह में समाए है शुक्ल और
कृष्ण पक्ष
चंद्र और सूर्य की तरह मैं भी प्रकृति
के नियमों को धारण करती हूँ इसका
साक्षी है मेरा गर्भ और मेरा मन ।

10. भाई और मैं  -3

तुम्हारे हाथ में था कैलकुलेटर जिससे तुमने
हल किये थे ” गणित” के गलत  सवाल
और “भूगोल” के नक्शे में प्रयुक्त तकनीकें
मैं अचार बनाने में अव्वल हो गई
मात्र 12 बरस की उम्र में ।
किसी ने मुझे फूटे मूँह मुझे बधाई नही दी,
तुम्हारे थर्ड क्लास आने पर,
तुम्हारी पिछली कक्षाओं की छोड़ी हुई पुस्तकें
माँ ने रोटियों के डब्बे में लगाने को दी, मैंने
छुपाए अपने प्रेमी के पत्र उपलों के बीच
दुछत्ती पर।
कवयित्री भीमराव आंबेडकर यूनिवर्सिटी आगरा  से हिन्दी साहित्य में स्नातकोत्तर हैं
संपर्क- jyotigaurav116@gmail.com

लिंक पर  जाकर सहयोग करें डोनेशन/ सदस्यता
आपका आर्थिक सहयोग स्त्रीकाल (प्रिंट, ऑनलाइन और यू ट्यूब) के सुचारू रूप से संचालन में मददगार होगा.
‘द मार्जिनलाइज्ड’ के प्रकाशन विभाग  द्वारा  प्रकाशित  किताबें  पढ़ें . लिंक पर जाकर ऑनलाइन ऑर्डर कर सकते हैं:‘द मार्जिनलाइज्ड’ अमेजन ,  फ्लिपकार्ट
संपर्क: राजीव सुमन: 9650164016, themarginalisedpublication@gmail.com

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here