फिल्म पद्मावती पर सेंसर किये जाने की स्त्रीवादी मांग

अरविंद जैन  फिल्म पद्मावती के खिलाफ एक ओर तो समाज के भीतर परंपरावादी ताकतों और सत्ता तन्त्र के गठजोड़ के साथ उग्र प्रदर्शन  इतिहास और फिक्शन के...

बनारस घराने की अंतिम ठसक का विदा-लेख

अभिषेक श्रीवास्तंव  बुधवार की शाम बनारस बेचैन था और कलकत्ता मौन। काल के निरंतर प्रवाह में सदियों से ठिठके हुए ये दो शहर जो हमेशा...

बाबुल मोरा नैहर छूटो जाए…

‘ठुमरी की रानी’ के रूप में आदर प्राप्त शास्त्रीय संगीत गायिका गिरिजा देवी का मंगलवार रात करीब 9 बजे कोलकाता में दिल का दौरा...

जनसत्ता में भावना भड़काती खबर: ‘बेशर्म सेल्फी’!

साम्प्रदायिक तनावों के बीच अखबारों की टिप्पणियाँ और ख़बरें इसमें आग का काम करती हैं. आज जब साम्प्रदायिकता अपने चरम पर है तब अखबारों...

ऐ मोहब्बत तेरे अंजाम पे रोना आया

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायिका  (गजल,ठुमरी,दादरा ) बेगम अख्तर के जयंती पर विशेष  प्रियंका  अख्तरीबाई जब अपनी शोहरत की बुलंदियों पर थीं, तब उन्हें लखनऊ के एक जाने...

पतनशील पूर्वप्रेमिका कंगना हाज़िर हो !

नीलिमा चौहान पेशे से प्राध्यापक नीलिमा 'आँख की किरकिरी ब्लॉग का संचालन करती हैं. प्रकाशित पुस्तकें: पतनशील पत्नियों के नोट्स, 'बेदाद ए इश्क' (संपादित) संपर्क...

फिल्म कक्कुज (पखाना) की निर्माता दिव्या भारती किसके निशाने पर ?

कुमुदिनी पति  विवाद , समाज और सियासत, दिव्या भारती अपने गृह-राज्य तमिलनाडु से बाहर रहने के लिए मजबूर कर दी गईं हैं।उनके कुछ करीबी मित्रों के...

क्यों खबर ली स्मृति ईरानी ने ‘पहरेदार पिया की’: बंद हो सकता है प्रसारण...

सूचना एवं प्रसारण मंत्री स्मृति ईरानी ने महिलाओं द्वारा चलाये गये ऑनलाइन कैम्पेन का संज्ञान लेते हुए ब्रॉडकास्टिंरग कंटेंट कप्लेंट्स काउंसिल (BCCC) को पत्र...

वासना नाजायज नहीं होती: लिपिस्टिक अंडर बुर्का बनाम बुर्के का सच

कुमारी ज्योति गुप्ता कुमारी ज्योति गुप्ता भारत रत्न डा.अम्बेडकर विश्वविद्यालय ,दिल्ली में हिन्दी विभाग में शोधरत हैं सम्पर्क: [email protected] ‘लिपिस्टिक अंडर माय बुर्का’ स्त्री जीवन...

सावधान ! यहाँ बुर्के में लिपस्टिक भी है और जन्नत के लिप्स का आनंद...

संजीव चंदन  पुरुषों के मुकाबले हमारी यौनिकता अधिक दमित है. हमपर आचरण के जितने कड़े नियम आरोपित किये गये हैं उतने कभी भी पुरुषों पर...
247FollowersFollow
529SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

स्त्रीकाल का नया अंक ऑनलाइन पढ़ें या घर मँगवायें

स्त्रीकाल घर मँगवायें लिंक क्लिक करें और द मार्जिनलाइज्ड पब्लिकेशन के वेबसाईट से ऑर्डर करें, सदस्य बनें : एक प्रति के लिए 25 रूपये शिपिंग चार्ज अलग से देना होगा
Loading...
Bitnami