इतिहास का अंधकूप बनाम बंद गलियों का रूह -चुह : गया में यौनकर्म और...

संजीव चन्दन  ( यह आलेख २००९ में एक शोध के सिलसिले में किये गये केस स्टडी का एक हिस्सा है :दो किस्तों में प्रकाशित ,...

इतिहास का अंधकूप बनाम बंद गलियों का रूह-चुह : गया में यौनकर्म और...

संजीव चंदन ( यह आलेख २००९ में एक शोध के सिलसिले में किये गये केस स्टडी का एक हिस्सा है :दो किस्तों में प्रकाश्य  )  यद्यपि...

औरत : आजाद होने का अर्थ !

अरविंद जैन स्त्री पर यौन हिंसा और न्यायालयों एवम समाज की पुरुषवादी दृष्टि पर ऐडवोकेट अरविंद जैन ने मह्त्वपूर्ण काम किये हैं. उनकी किताब...

उन्हें लड़ना ही होगा अपने हिस्से के आसमान के लिए

निवेदिता निवेदिता पेशे से पत्रकार हैं. सामाजिक सांस्कृतिक आंदोलनों में भी सक्रिय रहती हैं. हाल के दिनों में वाणी प्रकाशन से एक कविता संग्रह...

स्त्री के विरूद्ध स्त्री कठघरे में ( !)

अनीता मिश्रा अनीता मिश्रा स्त्री मुद्दों पर काफी सक्रिय रहती हैं . स्त्री के पक्ष में बेबाक टिप्पणियों के साथ सोशल मीडिया में...

पश्चिम उत्तर प्रदेश : स्त्री की नियति

प्रेमपाल शर्मा प्रेमपाल शर्मा सामाजिक -सांस्कृतिक चिन्तक हैं.संपर्क: 22744596(घर),23383315(कार्या),Email:prempalsharma@yahoo.co.in, Website www.prempalsharma.com ( प्रेमपाल शर्मा का यह आलेख पश्चिमी उत्तर प्रदेश के पितृसत्तात्मक समाज के दीर्घकालीन ...

हरियाणा की मनीपुरी बहुएं

अफ़लातून अफलू अफ़लातून समाजवादी चिन्तक हैं . समाजवादी जनपरिषद के राष्ट्रीय सचिव हैं ,इनसे इनके ई मेल आई डी : aflatoon@gmail.com पर संपर्क किया...

बदलाव की बयार : जद्दोजहद अभी बाकी है

अमृता ठाकुर ( यह आलेख हरियाणा के सतरोल खाप के द्वारा , महिला विंग बनाने , अन्तरजातीय विवाहों को मान्यता देने आदि के फैसलों के...

बेहाल गाँव, बेहाल बेटियां , गायब पौधे… धरहरा , जहाँ बेटी पैदा होने पर...

 संजीव चंदन         यह गाँव अचानक से देश -विदेश में चर्चित हो गया, जब 2010 में सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने...

एक यायावर पत्रकार

राजेंद्र प्रसाद सिंह भाषाविद राजेन्द्र प्रसाद सिंह हिन्दी आलोचना में अपने हस्तक्षेप के लिए जाने जाते हैं. यह लेख उनकी पुस्‍तक  ‘हिंदी का अस्मितामूलक साहित्य...
249FollowersFollow
617SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

स्त्रीकाल शोध जर्नल (33)

स्त्रीकाल ऑनलाइन शोध पत्रिका का आख़िरी अंक है. इसके बाद हम सिर्फ प्रिंट अंक ही प्रकाशित करेंगे. जिसमें हम वैसे ही आलेख...
Loading...