प्रियंका सिंह की कवितायें ( ‘पिता’ तथा अन्य )

प्रियंका सिंह  1. पिता जीवन की आकाश थाली में चमकीले तारे तुमने ही तो बिखेरे जिनकी रोशनी बनी पथ प्रर्दशक हमेशा से संघर्षों की लड़ाई में दीवार की टेक रहे तुम दुखों...

सरोज कुमारी की कवितायें (लिफ़ाफ़ा तथा अन्य )

सरोज कुमारी  कवितायें  1. हाथ में चाय की ट्रे लिए धीरे से खोलती है दरवाजा वे साठ पार की माएं आज भी जल्दी उठ जाती हैं माथे की सलवटों में...

लंबी उम्र का रोमांटिक आदर्शवाद

भारती वत्स करवा चौथ गुजर गई,अब देश के कई हिस्सों में छठ मनाया जा रहा है,थोड़े समय बाद तीज आयेगी ,स्त्रियों के व्रतों की लंबी...

अपूर्णीय क्षति: मृदुला सिन्हा नहीं रहीं

पंखुरी सिन्हा अनेकों पुस्तकों की विदुषी रचयिता, गोआ की पूर्व राज्यपाल, आदरणीया मृदुला सिन्हा जी के असमय निधन से साहित्य, राजनीति और लोक जीवन के...

यथार्थ के आईने में स्त्री (‘एक बटा दो’ उपन्यास के सन्दर्भ में)

मधुमिता ओझा  आज के सन्दर्भ में आज की स्त्री के बाहर और भीतर के संघर्ष को समझने के लिए लेखिका सुजाता का उपन्यास ‘एक बटा...

अनामिका अनु की कवितायें ( ‘लौट आओ स्त्रियाँ’ तथा अन्य )

अनामिका अनु  1.माई ली गाँव के बच्चियों की कब्र(1968) माई ली गाँव में मारी गयी कुछ बच्चियाँ शिन्ह पेंटिंग बन गयी कुछ फूलों की क्यारियाँ कुछ प्राचीन लाल टाइलों...

ज्योति शर्मा की कवितायें (चरित्रहीन तथा अन्य )

ज्योति शर्मा  1. स्त्रीपतन -1 प्रेम में डूबी स्त्री सदा पुरूष का हृदय टटोलती है प्रेम में भीगा पुरूष स्त्री की देह. 2. सोशल मीडिया और स्त्री हमेशा प्रेम में...

‘प्रसाद की रचनाओं में स्त्री स्वर की अभिव्यक्ति’

पूनम प्रसाद जयशंकर प्रसाद आधुनिक हिन्दी साहित्य के गौरान्वित व महान लेखक हैं।जिनके कृतित्व का गौरव अक्षुण है। उनकी प्रतिभा का निरूपण कविता, कहानी, नाटक,...

खोरदेकपा परंपरा की जटिलताएं और ‘सोनम’ उपन्यास

स्नेह लता नेगी भारत के पूर्वोत्तर में स्थित अरुणाचल प्रदेश के छोटे से गांव 'जिगांव' में येशे दोरजी थोंगछी का जन्म हुआ। थोंगछी जी अरुणाचल...

एकल मातृत्व और गालियाँ : अनामिका

पापा का जन्मदिन 5 सितंबर, 2020  प्रिय सपना, पिछले दिनों एकल मातृत्व पर जो पथराव हुए, इस संदर्भ में लिख रही हूँ और तुम्हीं को लिख रही...
309FollowersFollow
691SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

‘प्रसाद की रचनाओं में स्त्री स्वर की अभिव्यक्ति’

पूनम प्रसाद जयशंकर प्रसाद आधुनिक हिन्दी साहित्य के गौरान्वित व महान लेखक हैं।जिनके कृतित्व का गौरव अक्षुण है। उनकी प्रतिभा का निरूपण कविता, कहानी, नाटक,...
Loading...