खोरदेकपा परंपरा की जटिलताएं और ‘सोनम’ उपन्यास

स्नेह लता नेगी भारत के पूर्वोत्तर में स्थित अरुणाचल प्रदेश के छोटे से गांव 'जिगांव' में येशे दोरजी थोंगछी का जन्म हुआ। थोंगछी जी अरुणाचल...

पितृसत्ता और जातिगत व्यवस्था के पिंजड़े तोड़ती शकुंतिकाएं

पूजा मदान भारतीय पितृसत्तात्मक समाज में वर्षों से लड़की की परवरिश पराया धन मानकर ही होती आई है | बेटे की चाह रखते पुरुषप्रधान...

मातृत्व सुख

देविना अक्षयवर शाम के साढ़े छः बज रहे थे। आज कबीर आधा घंटा लेट था। घर पहुंचते ही उसने विद्या को हमेशा की तरह आवाज़...

दोस्त तथा अन्य कविताएं(पूजा यादव )

पूजा यादव 1- दोस्त तुम जैसे हो वैसे ही रहना मेरे दोस्त तुम मत बदलना किसी के लिए मेरे लिए भी नही क्योंकि तुम जैसे हो उसी से मैंने प्रेम...

स्त्री विमर्श की वैचारिकी में मील पत्थर है ‘बधिया स्त्री’

ज्ञानेन्द्र प्रताप सिंह (शोधार्थी)     आज हम लोग जिस समाज में रह रहे हैं, उसमें समाज के उपेक्षित वर्गों के हित के पक्ष में...

मेरे हमदम मेरे दोस्त ( दूसरी किस्त ) : रजनी दिसोदिया

रजनी दिसोदिया कहानी कार मुकेश मानस की कहानियों को पढ़ने के बाद स्त्री के पक्ष में स्थितियाँ चाहे बहुत बेहतर न हों पर यह उनकी...

मेरे हमदम मेरे दोस्त ( पहली किस्त ) : रजनी दिसोदिया

रजनी दिसोदिया  दलित पुरुष के लेखन में स्त्री इस मुद्दे पर दलित स्त्री विमर्श प्राय: उत्तेजित और आवेशमयी मुद्रा में रहता आया है। वास्तव में यह...

केरल के महान दलित नायक ‘अय्यन काली’

बाबू राज के नायर दलितों के उद्धार की बात आते ही केरल के एक महान समाज सुधारक की याद ताजा हो आती हैं। अस्पृश्य मानकर...

अभिशप्त जीवन की व्यथा-कथा  

उमा मीना  स्त्री-पुरुष दोनों ही जीवन का सृजन कर पीढ़ियों को आगे बढ़ाते हैं इसलिए सामाजिक संरचना में दोनों की महत्वपूर्ण भूमिका  हैं l लेकिन...

माई साहब (सविता अम्बेडकर) पीठ की स्थापना

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय माई साहेब यानी सविता अम्बेडकर के नाम पर एक पीठ की स्थापना करने जा रहा है। ऐसा खुलासा पहली...
269FollowersFollow
691SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

‘प्रसाद की रचनाओं में स्त्री स्वर की अभिव्यक्ति’

पूनम प्रसाद जयशंकर प्रसाद आधुनिक हिन्दी साहित्य के गौरान्वित व महान लेखक हैं।जिनके कृतित्व का गौरव अक्षुण है। उनकी प्रतिभा का निरूपण कविता, कहानी, नाटक,...
Loading...