सिर्फ महिलाओं का सरोकार नहीं है नारीवाद

वसीम अकरम वंचनाएं और दर्जाबंदी, ये समाज में ऐसी बे‍ड़ि‍यां हैं जो अक्सर महिलाओं के पांवों में बांध दी जाती रही हैं। सदियां गुजर गईं मगर वंचनाओं...

चोरी- छिपे देवदासी प्रथा आज भी जारी

मनोरमा सिंह कर्नाटक के नए बने जिले विजयनगर जो पहले बेल्लारी का हिस्सा था के कुडलिगे ताल्लुके में रह रही 22 साल की रुद्रम्मा (बदला...

भूख तथा अन्य कवितायें ( रेनू यादव )

रेनू यादव  भूख भूख कई प्रकार की होती है सत्ता की, दौलत की, ईज्ज़त की, शोहरत की, सेक्स की लेकिन एक भूख ऐसी होती है जिसके लगने के बाद अन्य सभी भूख बेमानी...

स्त्री सम्मान और अधिकार का ढाई हजार साल पुराना अभियान ‘अंजलि कम्म’

ए. के. पंकज  स्त्री को सम्मान देने वाले पहले भारतीय दार्शनिक मक्खलि गोसाल हैं। जब महावीर और बुद्ध अपने संघों में स्त्रियों का निषेध किए...

विशाखा मुलमुले की कविता ‘नदी के तीरे’ तथा अन्य कवितायेँ

विशाखा मुलमुले 1 ) रोटी , रेणुका और मैं हमारे मिलने का समय एक ही होता है अक्सर वह जब आती है मेरे घर मैं बना रही होती...

‘दहेज ले लो दामाद जी’ तथा अन्य कवितायें

मधुलिका बेन पटेल 1.  संवाद झांसी की रानी सीरियल पर एक आंख गाड़े हाथ लपर लपर बेल रहे रोटियां और चल रहा संवाद 'अरे लड़ाई सरकार धोखा देगी ओनखे लखमीबाई के पते...

कई चांद थे सरे-आसमां-शम्सुर्रहमान फ़ारूक़ी

    अनुपम सिंह वज़ीर खानम एक औरत,एक मुहब्बत,एक मज़बूती,एक स्वाभिमान,एक फूल,एक पैगाम का नाम है।   उनकी संक्षिप्त कहानी आपके सामने है- वज़ीर खानम चौदह, पंद्रह...

सिर्फ साजिशें ( कवितायें )

मणिबेन पटेल सिर्फ साजिशें  1. वर्षों पहले कामगारों के लिए कहा था अज्ञेय ने जो पुल बनाएंगे वह अनिवार्यता पीछे रह जाएंगे ... इतिहास में बंदर कहलाएंगे ' संभलो! ऐ दुनिया के चालाक...

भारतीय सिनेमा वाया स्त्री विमर्श – तेजस पूनिया

तेजस पूनिया हिंदी साहित्य के महान साहित्यकार आचार्य महावीर प्रसाद का कहना है- "साहित्य समाज का दर्पण है।" यक़ीनन साहित्य समाज का दर्पण होता है...

फूलमणि! कौन सुनेगा तुम्हारी दलील… अपील

अरविन्द जैन  फूलमणि नाम था उस लड़की का और उम्र थी सिर्फ दस साल। उम्र तो गुड्डों-गुड़ियों संग खेलने और स्कूल में पढने-लिखने की थी।...
309FollowersFollow
691SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

समकालीन स्त्री लेखन और मुक्ति का स्वरूप

रेनू दूग्गल भारतीय समाज में स्त्रियों की ऐतिहासिक स्थिति संतोषजनक नहीं रही यद्यपि वैदिक काल में स्त्रियों की सामाजिक स्थिति अत्यन्त उन्नत थी। इस काल...
Loading...