उपभोक्तावादी आधुनिकता की आजादी के बीच स्त्री

सुनीता  शोधार्थी,  हिन्दी साहित्य, आंबेडकर  विश्वविघालय दिल्ली संपर्क :sunitas988@gmail.com 90 के दशक में भारत देश ने अपनी आर्थिक स्थिति को सुधारने के लिए भूंमडलीकरण, बाजारवाद और...

स्त्री का समाज और समाज में स्त्री‘अकेली’

अल्पना मिश्र एसोसिएट प्रोफेसर, हिंदी विभाग, दिल्ली विश्वविद्यालय संपर्क : alpana.mishra@yahoo.co.in  वरिष्ठ लेखिका मन्नू भंडारी के जन्मदिन पर विशेष  अलग -अलग समय की स्त्री रचनाकारों ने हमेशा...

देह का स्त्रीवादी पाठ और मित्रो मरजानी

शशिकला त्रिपाठी  विभागाध्यक्ष , हिन्दी,वसंता कॉलेज, बनारस. उत्तरशती के उपन्यासों में स्त्री सहित कई आलोचना पुस्तक प्रकाशित shashivcr9936@gmail.com किसी वरिष्ठतम रचनाकर की उस कृति का...

ग्रामीण महिलाओं के श्रम का राजनीतिक अर्थशास्त्र

आकांक्षा  महात्मा  गांधी अन्तरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय में स्त्री अध्ययन विभाग में शोधरत। संपर्क : ई मेल-akanksha3105@gmail.com महिला श्रम की बात करते समय हमारे मस्तिष्क में जो विचार...

स्त्री विमर्शकार मीरा

नितिका गुप्ता नितिका गुप्ता डा. बाबा साहब आम्बेडकर विश्वविद्यालय , दिल्ली से शोध कर रही हैं.   संपर्क : nitika.gup85@gmail.com . हिन्दी साहित्य के...

विज्ञान के क्षेत्र में लडकियां क्यों कम हैं ?

सुशील शर्मा  लड़कियों  भावनात्मक रूप से लड़कों की अपेक्षा ज्यादा मजबूत होती हैं ,किन्तु वे आधुनिक तकनीकी एवं विज्ञान के विषयों की अपेक्षा परम्परागत विषयों...

स्त्री मुक्ति का यथार्थ

कुमारी ज्योति गुप्ता  चूकि कि यह समाज पुरुषप्रधान है इसलिए अधिकांश  स्त्रियां भी पुरुषवादी मानसिकता से ग्रस्त हैं। पुरुषों की मानसिकता को बदलना जितना जरूरी...

मातृवंशात्मक समाज में स्त्री

आकांक्षा  महात्मा गांधी अन्तरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय में स्त्री अध्ययन विभाग में शोधरत। संपर्क : ई मेल-akanksha3105@gmail.com आमतौर पर कुछ माता –प्रधान समाजों को मातृसत्तात्मक समाज कह दिया...

लोकआस्था और श्रमण परम्परा की अदम्य जिजीविषा का आख्यान

पूनम सिंह कथाकार , कवि और आलोचक पूनम सिंह की कहानी , कविता और आलोचाना की कई किताबें प्रकाशित हैं . सम्पर्क : मो॰ 9431281949 'सबलोग' के...

पोवाडा : वीर रस की मराठी कविता ( दलित परंपरा )

कुसुम त्रिपाठी स्त्रीवादी आलोचक.  एक दर्जन से अधिक किताबें प्रकाशित हैं , जिनमें ' औरत इतिहास रचा है तुमने','  स्त्री संघर्ष  के सौ वर्ष ' आदि चर्चित...
309FollowersFollow
691SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

‘प्रसाद की रचनाओं में स्त्री स्वर की अभिव्यक्ति’

पूनम प्रसाद जयशंकर प्रसाद आधुनिक हिन्दी साहित्य के गौरान्वित व महान लेखक हैं।जिनके कृतित्व का गौरव अक्षुण है। उनकी प्रतिभा का निरूपण कविता, कहानी, नाटक,...
Loading...