सरोज कुमारी की कवितायें (लिफ़ाफ़ा तथा अन्य )

सरोज कुमारी  कवितायें  1. हाथ में चाय की ट्रे लिए धीरे से खोलती है दरवाजा वे साठ पार की माएं आज भी जल्दी उठ जाती हैं माथे की सलवटों में...

अनामिका अनु की कवितायें ( ‘लौट आओ स्त्रियाँ’ तथा अन्य )

अनामिका अनु  1.माई ली गाँव के बच्चियों की कब्र(1968) माई ली गाँव में मारी गयी कुछ बच्चियाँ शिन्ह पेंटिंग बन गयी कुछ फूलों की क्यारियाँ कुछ प्राचीन लाल टाइलों...

ज्योति शर्मा की कवितायें (चरित्रहीन तथा अन्य )

ज्योति शर्मा  1. स्त्रीपतन -1 प्रेम में डूबी स्त्री सदा पुरूष का हृदय टटोलती है प्रेम में भीगा पुरूष स्त्री की देह. 2. सोशल मीडिया और स्त्री हमेशा प्रेम में...

दोस्त तथा अन्य कविताएं(पूजा यादव )

पूजा यादव 1- दोस्त तुम जैसे हो वैसे ही रहना मेरे दोस्त तुम मत बदलना किसी के लिए मेरे लिए भी नही क्योंकि तुम जैसे हो उसी से मैंने प्रेम...

मेरे हमदम मेरे दोस्त ( दूसरी किस्त ) : रजनी दिसोदिया

रजनी दिसोदिया कहानी कार मुकेश मानस की कहानियों को पढ़ने के बाद स्त्री के पक्ष में स्थितियाँ चाहे बहुत बेहतर न हों पर यह उनकी...

केरल के महान दलित नायक ‘अय्यन काली’

बाबू राज के नायर दलितों के उद्धार की बात आते ही केरल के एक महान समाज सुधारक की याद ताजा हो आती हैं। अस्पृश्य मानकर...

अभिशप्त जीवन की व्यथा-कथा  

उमा मीना  स्त्री-पुरुष दोनों ही जीवन का सृजन कर पीढ़ियों को आगे बढ़ाते हैं इसलिए सामाजिक संरचना में दोनों की महत्वपूर्ण भूमिका  हैं l लेकिन...

‘चलत मुसाफ़िर’ भारतीय संस्कृति से रूबरू कराता एक मंच

क्या है चलत मुसाफिर एक प्लेटफोर्म है, उन सभी लोगों के लिए जिनके अंदर घूमक्कड़ी वाला बड़ा कीड़ा है। जो फेसबुक पर 'इफ ट्रैवेलिंग वॉज...

विदर्भ के किसानों के लिए बड़ा कदम :फसल-वितरण केंद्र खोलेगा हिन्दी विश्वविद्यालय

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय जहाँ सावित्री बाई फुले के नाम का एक छात्रावास बना हुआ है और वहाँ उनके संबंध में कुछ पढ़ाई...

माई साहब (सविता अम्बेडकर) पीठ की स्थापना

महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय माई साहेब यानी सविता अम्बेडकर के नाम पर एक पीठ की स्थापना करने जा रहा है। ऐसा खुलासा पहली...
309FollowersFollow
691SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

समकालीन स्त्री लेखन और मुक्ति का स्वरूप

रेनू दूग्गल भारतीय समाज में स्त्रियों की ऐतिहासिक स्थिति संतोषजनक नहीं रही यद्यपि वैदिक काल में स्त्रियों की सामाजिक स्थिति अत्यन्त उन्नत थी। इस काल...
Loading...