खबरें

  चमकीला का स्याह समाज  

   चमकीला का स्याह समाज   रंगों की बात करते हुए चटकीले रंगों को हम विशेष अवसरों और लोगों के लिए जोड़ कर देखा करते हैं।स्याह...

साहित्य

कला-संस्कृति

दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा

  दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा  राजकुमारी असिस्टेंट प्रोफ़ेसर (हिन्दी ) ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज (सांध्य) संवेदना मनुष्य और साहित्य की किसी भी विधा का मूलभूत...

पंगत

स्वास्थ्य

दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा

  दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा  राजकुमारी असिस्टेंट प्रोफ़ेसर (हिन्दी ) ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज (सांध्य) संवेदना मनुष्य और साहित्य की किसी भी विधा का मूलभूत...

पंगत

ISSN 2394-093X
418FansLike
783FollowersFollow
73,600SubscribersSubscribe

पढ़ी जा रही हैं

समसामयिकी

दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा

  दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा  राजकुमारी असिस्टेंट प्रोफ़ेसर (हिन्दी ) ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज (सांध्य) संवेदना मनुष्य और साहित्य की किसी भी विधा का मूलभूत...

  चमकीला का स्याह समाज  

   चमकीला का स्याह समाज   रंगों की बात करते हुए चटकीले रंगों को हम विशेष अवसरों और लोगों के लिए जोड़ कर देखा करते हैं।स्याह...

पंगत

कुछ लोग बहुत मिस करते हैं, पंगत को!बैठकर ठाठ से जीमना,शायद वो भूलते नहीं,अपना 'परमीन' होना! परमीन के लिए 'पक्की'बाकियों के लिए 'कच्ची'!ये इंतजाम 'बफर'...

क्या गाँधी का नाम, लोकप्रियता और प्रतिष्ठा “गाँधी” फिल्म की मोहताज है ?

गाँधीजी ने किंग जॉर्ज पंचम पर हमला करते हुए कहा, ‘कुछ लोगों को मेरा ये पहनावा अच्छा नहीं लगता, मेरी वेशभूषा का मजाक उड़ाया जा रहा है। मुझसे पूछा जा रहा है कि मैं इसे क्‍यों पहनता हूं। मैंने इस वेषभूषा को सोच समझकर पहना है। मेरे जीवन में जो परिवर्तन लगातार होते गये हैं, उनके साथ पोशाक में भी परिवर्तन हो गए।"

कमला: मौत एक क्रमिक आत्म(हत्या)  

  संदर्भ है नेटफ्लिक्स पर आई इजिप्ट की पृष्ठभूमि पर बनी अरबी फिल्म “कमला” का। विवाह संस्था में लड़कियों की योनि-पवित्रता, ख़तना और स्त्री-देह...

बड़ी ख़बरें

दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा

  दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा  राजकुमारी असिस्टेंट प्रोफ़ेसर (हिन्दी ) ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज (सांध्य) संवेदना मनुष्य और साहित्य की किसी भी विधा का मूलभूत...

Latest Articles

लोकप्रिय