जूते

कौशल पंवार कौशल पंवार दिल्ली विश्वविद्यालय के एक कालेज में संस्कृत पढाती हैं. उनसे उनके मोबाइल न.  09999439709 पर सम्पर्क किया जा सकता है. ( कौशल...

जब ‘दुल्हन’ घर छोड़ कर चल देती है…

 असीमा भट्ट ( असीमा भट्ट चेखव की कहानी दुल्हन' की नायिका की तरह पहले तो प्रेम  और विवाह के प्रचलित फ्रेम में स्वप्न देखती और...

विष्णु नागर की कवितायें

 ( विष्णु नागर के लिए  और उनकी कविताओं के लिए आलोचक विजय कुमार से बढिया नहीं कहा जा सकता : आप क्या हैं? कोई पीर...

कुँए में मेंढक

पुटला हेमलता/अनुवाद : डॉ. जी. वी. रत्नाकर ( पुटला हेमलता द्वारा लिखित तेलगू की यह कहानी भारतीय भाषाओं में हो रहे दलित स्त्री लेखन का...

यौनिकता की विश्वसनीय दृश्यता -भाग 2

एल.जे. रूस्सुम/ अनुवाद : डा अनुपमा गुप्ता (एल .जे .रुस्सुम का यह आलेख स्त्रीकाल के प्रिंट एडिशन के लिए भेजा गया था , जिसे हम...

स्मृतिशेष अनुराधा मंडल की कवितायें .

( अनुराधा मंडल आज ही हमें अलविदा कह गईं ,वे लम्बे समय से बीमार थीं . उन्हें स्तन कैंसर था , जिससे वे 2012...

यौनिकता की विश्वसनीय दृश्यता

एल.जे. रूस्सुम/ अनुवाद : डा अनुपमा गुप्ता (एल .जे .रुस्सुम का यह आलेख स्त्रीकाल के प्रिंट एडिशन के लिए भेजा गया था , जिसे हम...

सविता सिंह की कवितायें

( प्रख्यात आलोचक मैनेजर पाण्डेय सविता सिंह की कविताओं के सन्दर्भ में लिखते हैं, ‘ सविता सिंह की कविताओं में गहरा आत्म संघर्ष है और आत्म मंथन...

माया अंजेलो की कवितायें

माया अंजेलो/ अनुवाद : विपिन चौधरी 1. न्यूयार्क में जागरण पर्दे, हवा के खिलाफ अपनी जंग छेड़ रहे हैं, बच्चे परियों से सपनों का आदान-प्रदान करते हुए नींद ले रहे हैं. शहर...

अपर्णा अनेकवर्णा की कवितायें

1. एक ठेठ/ढीठ औरत सुबह से दिन कंधे पे है सवार उम्मीदों की फेरहिस्त थामे इसकी.. उसकी.. अपनी.. सबकी.. ज़रूरतें पूरी हो भी जाएँ.. उम्मीदें पूरी करना बड़ा भारी...
249FollowersFollow
644SubscribersSubscribe

लोकप्रिय

रजनी दिसोदिया की आलोचना पुस्तक का लोकार्पण

इस किताब में सलीके से कही गयी बातों को हमें कक्षाओं में लेकर जाना चाहिए। जाति के मुद्दे को पाठ्यक्रम में न लाना भी एक साज़िश है। लेखिका की दृष्टि दलित या स्त्री विमर्श तक नहीं बल्कि कहीं अधिक व्यापक है। उनकी विनम्र शैली लोगों को जोड़ने का काम करती है। इन लेखों में ताऱीख भी देनी चाहिए जिससे उनकी वैचारिक यात्रा को पाठक समझ सके। यह पुस्तक दलित चेतना को विस्तार देती है।
Loading...