खबरें

ईना, मीना के बहाने “अकिला फुआ”

प्रीति प्रकाश की कहानी "ईना, मीना और अकिला फुआ" के बहाने आज अकिला फुआ पर बात की जाए। यह कहानी प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका...

साहित्य

कला-संस्कृति

सावन और काँवर

बचपन की यादों में, कुछ धुंधली यादें हैं काँवड़ से संबंधित। 1 जुलाई से स्कूल खुलते। दो महीने की गर्मियों की छुट्टियों का...

स्वास्थ्य

सावन और काँवर

बचपन की यादों में, कुछ धुंधली यादें हैं काँवड़ से संबंधित। 1 जुलाई से स्कूल खुलते। दो महीने की गर्मियों की छुट्टियों का...
ISSN 2394-093X
418FansLike
783FollowersFollow
73,600SubscribersSubscribe

पढ़ी जा रही हैं

समसामयिकी

सावन और काँवर

बचपन की यादों में, कुछ धुंधली यादें हैं काँवड़ से संबंधित। 1 जुलाई से स्कूल खुलते। दो महीने की गर्मियों की छुट्टियों का...

ईना, मीना के बहाने “अकिला फुआ”

प्रीति प्रकाश की कहानी "ईना, मीना और अकिला फुआ" के बहाने आज अकिला फुआ पर बात की जाए। यह कहानी प्रतिष्ठित साहित्यिक पत्रिका...

उम्मीदों के आतिशदाने

विभा रानी के कहानी संग्रह 'आतिशदाने' में मुस्लिम विमर्श की कहानियाँ है। अन्य विमर्शों से भिन्न मुस्लिम विमर्श वास्तव में मुसलमानों विशेषकर भारतीय मुसलामानों...

जनादेश की दिशा को कब समझेगा विपक्ष

संविधान,सामाजिक न्याय और सेकुलरिज्म के पक्ष में, जनता ने 18वीं लोकसभा चुनाव को एक जनमत संग्रह में तब्दील कर दिया था,हर तरह की विभाजनकारी और नफ़रती राजनीति को जोर का झटका देते हुए सामाजिक न्याय के बुनियादी प्रश्नों को संभवतः पहली बार चुनाव के केंद्र में ला दिया था.

दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा

  दलित कहानियों में संवेदनात्मक पक्ष, परिवर्तन और दिशा  राजकुमारी असिस्टेंट प्रोफ़ेसर (हिन्दी ) ज़ाकिर हुसैन दिल्ली कॉलेज (सांध्य) संवेदना मनुष्य और साहित्य की किसी भी विधा का मूलभूत...

बड़ी ख़बरें

सावन और काँवर

बचपन की यादों में, कुछ धुंधली यादें हैं काँवड़ से संबंधित। 1 जुलाई से स्कूल खुलते। दो महीने की गर्मियों की छुट्टियों का...

Latest Articles

लोकप्रिय